जातीयवाद

  • केवल स्वाथँ और भेदभाव के कारण मैञी और प्रेम जैसी मूल्यवान चिजे गंधी हो गयी है।